This is an automatically generated PDF version of the online resource india.mom-rsf.org/en/ retrieved on 2020/09/21 at 20:40
Reporters Without Borders (RSF) & Data leads - all rights reserved, published under Creative Commons Attribution-NoDerivatives 4.0 International License.
Data leads logo
Reporters without borders

मातृभूमि

मातृभूमि भारत के प्रमुख मलयालम समाचार पत्रों में से एक है। 1923 में एक एक्टिविस्ट किज़हके पोटका केसवा मेनन द्वारा स्थापित उन पहले अख़बारों में से एक था जो उस समय केरल में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की आवाज़ बन गया।

अखबार के पहले संस्करण ने राष्ट्रीय आंदोलन के समर्थन कर एक मजबूत संदेश दिया और गैर-संगठित मलयाली भाषी लोगों को एकजुट करने का संकल्प लिया। संपादकीय में एक देशभक्तिपूर्ण स्वर के साथ साथ असमानता, विभाजन और विकृतियों से वास्तविक स्वतंत्रता की आवश्यकता पर बल दिया जाता था। वल्लथोल नारायण मेनन जैसे कवियों तथा अन्य कवियों के स्तंभों ने सदैव ही

स्वतंत्रता सेनानियों को प्रेरित किया।

सोलह संस्करणों के साथ - केरल में दस, एक नई दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, दुबई और दोहा में अखबार की खपत 1.5 मिलियन प्रतियों से भी अधिक है। 2017 के इंडियन रीडरशिप सर्वे के अनुसार, देश भर में शीर्ष 20 दैनिक समाचार पत्रों में 15 वीं रैंक, क्षेत्रीय भाषाओं में पाठकों की संख्या 7 वें स्थान पर और मलयालम में 2 सबसे अधिsक 11.84 मिलियन पाठक संख्या है।

 

मुख्य तथ्य

श्रोतागण शेयर

1.92%

स्वामित्व प्रकार

निजी

भौगोलिक कवरेज

राष्ट्रीय

सामग्री प्रकार

भुगतान किया हुआ

डेटा सार्वजनिक रूप से उपलब्ध है

स्वामित्व डेटा अन्य स्रोतों से आसानी से उपलब्ध है, उदाहरण सार्वजनिक रजिस्ट्रियां आदि

2 ♥

मीडिया कंपनियों / समूह

मातृभूमि मुद्रण और प्रकाशन कंपनी प्राइवेट लिमिटेड

स्वामित्व

स्वामित्व - ढाँचा

मातृभूमि का स्वामित्व मातृभूमि मुद्रण और प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड के 100% नियंत्रण मे है, मातृभूमि मुद्रण और प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड का हिस्सा 384 व्यक्तियों में विभाजित है।
सांसद वीरेंद्र कुमार और परिवार के पास कंपनी का 37.64% हिस्सा है, जिसमें एमवी वीरेंद्र कुमार के बेटे एमवी श्रेयांश कुमार के पास 16.9% और एमपी वीरेंद्र कुमार के पास 6.3% शेयर है, एमजे विजयपद्मन (एमपी वीरेन्द्र कुमार के पहले चचेरे भाई) के पास 4.78% की हिस्सेदारी है। शेयर और उनकी पत्नी नमिता के पास 2.62%, श्री एमके विवेक के पास 3.47% की हिस्सेदारी और एमके जिनचंद्रन के पिता विजयपदमन के पास 3.49% की हिस्सेदारी है।

पी. वी. चंद्रन परिवार के पास मातृभूमि मुद्रण एवं प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड की 22.04% हिस्सेदारी है। यह शेयर परिवार के 9 सदस्यों के बीच वितरित हैं, जिनमें से प्रमुख शेयरधारक हैं श्री पीवी चंद्रन 6.41% शेयर, उनके भाई पी वी गंगाधरन 5.83% शेयर और पी वी गंगेशरन के बेटे वी वी निदेश 5.80% शेयर और शेष शेयर परिवार के अन्य 6 सदस्यों में विभाजित हैं।
मातृभूमि मुद्रण और प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड का 40.36% हिस्सा अन्य व्यक्तिगत शेयरधारकों के बीच 1% से कम हिस्सेदारी के साथ विभाजित है।

मताधिकार

अनुपलब्ध डेटा

व्यक्तिगत स्वामी

समूह / व्यक्तिगत स्वामी

अन्य अल्पसंख्यक शेयरधारक

शेष 40.36% हिस्सेदारी अन्य व्यक्तिगत शेयरधारकों के बीच 1% से कम हिस्सेदारी के साथ विभाजित है

40.4%
मीडिया कंपनियों / समूह
तथ्य

सामान्य जानकारी

स्थापना वर्ष

1922

संस्थापक संबद्ध व्यवसाय

किझके पोटा केसवा मेनन

दक्षिण भारत के केरल राज्य में पलक्कड़ के महाराजा के एक शाही परिवार में पैदा हुए थे। वह मद्रास विश्वविद्यालय से कला स्नातक और यूनाइटेड किंगडम के मध्य टेंपल से बार-एट-लॉ थे। वह एक स्वतंत्रता सेनानी भी रहे जो 1915 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए थे। वह एक उत्साही लेखक थे और कई पुस्तकों और निबंधों के लेखक हैं। मेनन ने स्वतंत्रता आंदोलन पर अपने विचार व्यक्त करने के लिए एक मलयालम समाचार पत्र मातृभूमि (मातृभूमि) का शुभारंभ किया। आज अखबार केरल के प्रमुख और व्यापक रूप से पढ़े जाने वाले मलयालम समाचार पत्रों में से एक है।

सी ई ओ संबद्ध व्यवसाय

मण्यमकोडे वीरेन्द्रकुमार पदमप्रभा

(एम. पी.वीरेन्द्र कुमार) द मातृभूमी प्रिंटिंग एंड पब्लिशिंग कंपनी लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं और मातृभूमी अखबार के प्रकाशक हैं। वह विवेकानंद कॉलेज, मद्रास से दर्शनशास्त्र में परास्नातक हैं और सिनसिनाटी विश्वविद्यालय, ओहियो, यूएसए से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर हैं। कुमार राज्य सभा (भारतीय संसद का ऊपरी सदन) में संसद सदस्य हैं, जिसके लिए उन्हें जनता दल (यूनाइटेड) के प्रतिनिधि के रूप में चुना गया था। 1997 में जब इंद्र कुमार गुजराल प्रधानमंत्री थे तब वह केंद्र में राज्य मंत्री थे।

मुख्या संपादक संबद्ध व्यवसाय

परयूरकंडी वेटाथ चंद्रन

या पी.वी. चंद्रन मातृभूमी प्रिंटिंग एंड पब्लिशिंग प्राइवेट लिमिटेड के सम्पादक निदेशक और प्रबंध संपादक हैं यह दैनिक मलयालम में प्रकाशित करते हैं। चंद्रन केरल ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक हैं, जिसे उन्होंने 1958 में अपने पिता के साथ मिलकर स्थापित किया था साथ ही एक प्रमुख उद्योगपति और एक सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं। वह कल्पका रबर प्लांटेशंस प्राइवेट लिमिटेड, केटीसी कार्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, केटीसी ऑटोमोबाइल्स प्राइवेट लिमिटेड, पीवीएस ऑटोमोटिव कंपनी प्राइवेट लिमिटेड, पीवीएस हॉस्पिटल्स प्राइवेट लिमिटेड, पीवीएस मेमोरियल हॉस्पिटल प्राइवेट लिमिटेड और इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी के साथ निदेशक भी हैं।

अन्य महत्वपूर्ण लोग संबद्ध व्यवसाय

पी.आई. राजीव

मातृभूमी प्रिंटिंग एंड पब्लिशिंग कंपनी लिमिटेड के कार्यकारी संपादक हैं। वह एक खोजी पत्रकार और स्तंभकार हैं। इससे पहले वे द हिंदू के रेजिडेंट एडिटर, मैनेजिंग एडिटर, इंडिया टुडे के क्षेत्रीय संस्करण और टाइम्स ऑफ इंडिया के मध्य प्रदेश संस्करण के रेजिडेंट एडिटर थे। उन्होंने द इंडियन एक्सप्रेस, वॉलंटरी हेल्थ एसोसिएशन ऑफ इंडिया और रास अल-खैमा, संयुक्त अरब अमीरात सरकार के साथ विभिन्न स्तरों पर काम किया।

संपर्क करें

मातृभूमि मुद्रण और प्रकाशन कंपनी लिमिटेड,

एम.जे. कृष्णमोहन मेमोरियल बिल्डिंग,

के.पी. केशव मेनन रोड,

कोझीकोड -673001

टे: 0495-2362000

वेबसाइट: www.mathrubhumi.com

 

वित्तीय जानकारी

राजस्व (मिलियन डॉलर में)

अनुपलब्ध डेटा

परिचालन लाभ

अनुपलब्ध डेटा

विज्ञापन (कुल धन का%)

अनुपलब्ध डेटा

मार्केट शेयर

अनुपलब्ध डेटा

अतिरिक्त जानकारी

मेटा डेटा

नी के लिए शेयरहोल्डिंग पैटर्न कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध था। दस्तावेज़ में दिए गए डेटा की पुष्टि करने के लिए एमओएम टीम ने 19 मार्च 2019 को एक ईमेल भेजा था, जिसके बाद कंपनी को 21 मार्च 2019 को एक पत्र भेजा गया था। कंपनी से कोई भी प्रतिक्रिया अभी नहीं मिली है

स्रोत मीडिया प्रोफाइल

  • द्वारा परियोजना
    Logo of Data leads
  •  
    Reporters without borders
  • द्वारा वित्त पोषित
    BMZ