This is an automatically generated PDF version of the online resource india.mom-rsf.org/en/ retrieved on 2020/08/04 at 22:17
Reporters Without Borders (RSF) & Data leads - all rights reserved, published under Creative Commons Attribution-NoDerivatives 4.0 International License.
Data leads logo
Reporters without borders

अग्रवाल परिवार

अग्रवाल परिवार

अग्रवाल परिवार के पास D.B Corporation Limited का 69.82% हिस्सा है, जो कंपनी दैनिक भास्कर प्रकाशित करती है, जो हिंदी दैनिक समाचार पत्र के साथ-साथ अन्य कंपनियों के माध्यम से भी प्रकाशित होता है। परिवार के वरिष्ठ सदस्य, रमेश चंद्र अग्रवाल का जन्म, झाँसी, उत्तर प्रदेश में 30 नवंबर 1944 को हुआ था। इन्होने भोपाल विश्वविद्यालय से पोलिटिकल साइंस में ग्रेजुएशन किया है। स्थापना से ही ये डी बी कारपोरेशन के अध्यक्ष रहे हैं। डी बी कारपोरेशन हिंदी समाचार पत्र, दैनिक भास्कर प्रकाशित करती है। रमेश चंद्र अग्रवाल FICCI - मध्य प्रदेश के भी अध्यक्ष रह चुके हैं। इन्हे राजीव गाँधी लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। 2012 में फोर्बेस के "भारत के सबसे धनि व्यक्तियों" की सूची में ये 95 नंबर पर थे। 2017 में उनके निधन के बाद आज उनके बेटे सुधीर अग्रवाल, गिरीश अग्रवाल, और पवन अग्रवाल चला रहें हैं।

सुधीर अग्रवाल, रमेश चंद्र अग्रवाल के पुत्र हैं। ये डी बी कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक हैं। इन्होने मध्य प्रदेश के भोपाल विश्वविद्यालय से विज्ञान में स्नातक हासिल किया है। ये 18 और अन्य कंपनियों और पांच LLP (लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप) में भी डायरेक्टर बने हुए हैं। ये कंपनी विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत हैं जैसे - पावर, रियल एस्टेट, मुद्रण और प्रकाशन, खनन, आतिथ्य, मीडिया और मनोरंजन।

गिरीश अग्रवाल , रमेश चंद्र अग्रवाल के पुत्र, डी बी कारपोरेशन के बोर्ड में 1995 से बने हुए हैं। भोपाल, मध्य प्रदेश के बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय से कॉमर्स में स्नातक पाने के बाद, आज ये कंपनी के मार्केटिंग और ऑपरेशन्स का नेतृत्व करते हैं। ये इंडियन न्यूज़ सर्विस (INS) के सदस्य हैं और INS- मध्य प्रदेश के अध्यक्ष भी हैं। इन्हे कईं पुरस्कारों से सम्मानित किया है जैसे 2006 में एर्न्स्ट एंड यंग का "इंटरप्रेन्योर ऑफ़ द ईयर" सम्मान, और एशिया-पसिफ़िक इंटरप्रेन्योर अवार्ड में "आउटस्टैंडिंग इंटरप्रेन्योर" का खिताब। इसके अलावा, गिरीश अग्रवाल कईं अन्य कंपनियों में भी बतौर निदेशक कार्यरत हैं। इनके पास कंपनी के 22.17% शेयर हैं। #

पवन अग्रवाल , गिरीश अग्रवाल और सुधीर अग्रवाल के भाई हैं और डी बी कारपोरेशन के बोर्ड में 2005 से बने हुए हैं। रेडियो और डिजिटल पोर्टल्स के अलावा, ये प्रोडक्शन और इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट के प्रमुख भी हैं। इन्होने अमेरिका के पर्ड्यू यूनिवर्सिटी से इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग में स्नातक प्राप्त किया है। पवन अग्रवाल को पुरस्कार भी मिलें हैं। 2007 में इंडियन लैंग्वेज न्यूज़पेपर एसोसिएशन ने इन्हे प्रादेशिक भाषाओँ के पाठकों को बढ़ावा देने के लिए, तत्कालीन प्रधान मंत्री के हाथों से सम्मान दिलाया। 2010 में एन्टेर्प्रिसिंग एशिया ने इन्हे एशिया-पसिफ़िक का सर्वश्रेष्ठ उद्यमी घोषित किया। इनके पास भी कंपनी के 22.17% शेयर हैं।

ये परिवार, डीबी कॉर्पोरेशन लिमिटेड के द्वारा, 5 अन्य समाचार पत्रों, 10 पत्रिकाओं, 7 राज्यों में 30 रेडियो स्टेशनों, 9 डिजिटल पोर्टल्स और 4 मोबाइल ऐप के भी मालिक है। परिवार के सदस्य रियल एस्टेट, ई-कॉमर्स, खनन, बिजली, आतिथ्य आदि के व्यवसाय में हैं।

मीडिया कंपनियों / समूह
संचार माध्यम
तथ्य

व्यापार

रियल एस्टेट

डी बी कारपोरेशन लिमिटेड (100%), www.homeonline.com

शिक्षा

डी बी कारपोरेशन लिमिटेड (100%)

मुद्रण और प्रकाशन

डी बी कारपोरेशन लिमिटेड (100%)

निर्माण

शास्वत होम्स LLP

खनन

डिलाइट मिनिंग्स प्राइवेट लिमिटेड

खाद्य प्रसंस्करण

रीजेंसी एग्रो प्रोडक्ट लिमिटेड

मुद्रण

राइटर्स और पब्लिशर्स प्राइवेट लिमिडेट

बिजली

DB पावर (मध्य प्रदेश) लिमिटेड

थोक व्यापार

अग्रवाल विजन एलएलपी

तेल और गैस की निकासी

विस्टा प्राकृतिक संसाधन प्राइवेट लिमिटेड

प्रकाशन

भास्कर प्रकाशन और संबद्ध उद्योग प्राइवेट लिमिटेड

बिजली का उत्पादन और वितरण

डॉल्बी माइनिंग एंड पावर प्राइवेट लिमिटेड

होटल

डेलिगेंट होटल कॉर्पोरेशन प्राइवेट लिमिटेड

दूरसंचार

मैं मीडिया कॉर्प लिमिटेड

वित्तीय अंतर-मध्यस्थता

भास्कर इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड

विज्ञापन

नई युग प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड

गैर-धातु खनिज उत्पादों के निर्माता

शारदा सॉल्वेंट लिमिटेड

अतिरिक्त जानकारी

मेटा डेटा

कंपनी के स्वामित्व की सूचना भारत सरकार के कॉर्पोरेट अफेयर्स मंत्रालय के वेबसाइट से पाया गया। सभी दस्तावेज़ों, और एकत्रित सूचना की पुष्टि के लिए कंपनी को ईमेल द्वारा १९ मार्च २०१९ को, और कूरियर द्वारा २२ मार्च २०१९ को निवेदन भेजा गया, MOM टीम द्वारा। कंपनी से मगर अब तक कोई जवाब नहीं मिला।

  • द्वारा परियोजना
    Logo of Data leads
  •  
    Reporters without borders
  • द्वारा वित्त पोषित
    BMZ