This is an automatically generated PDF version of the online resource india.mom-rsf.org/en/ retrieved on 2019/12/15 at 08:16
Reporters Without Borders (RSF) & Data leads - all rights reserved, published under Creative Commons Attribution-NoDerivatives 4.0 International License.
Data leads logo
Reporters without borders

राजनीति

भारतीय राजनीतिक स्पेक्ट्रम को राजनीतिक दलों की भरकम संख्या के साथ देखा जाता है।   सात दलों को भारत के चुनाव आयोग द्वारा राष्ट्रीय दलों के रूप में मान्यता प्राप्त है। 56 को क्षेत्रीय दलों के रूप में मान्यता प्राप्त है, वर्तमान में चुनाव के मध्यनजर 2044 अतिरिक्त पार्टियों को भारत के आयोग मे पंजीकृत किया गया है लेकिन आधिकारिक तौर पर आयोग द्वारा राजनीतिक पार्टी के रूप में मान्यता प्राप्त न होना चुनावी प्रदर्शन पर निर्भर करता है।  

शुरूआती साल  

पंद्रह अगस्त 1947 को ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद, भारत संसदीय लोकतंत्र के साथ एक गणराज्य बन गया। छब्बीस जनवरी 1950 को भारत को अपना संविधान मिला, जिसने अपने नागरिकों को उन प्रतिनिधियों को सीधे चुनने की अनुमति दी जो उनकी ओर से शासन करेंगे। यह दुनिया के किसी भी संप्रभु देश के सबसे लंबे लिखित और सबसे संशोधित संशोधनों में से एक है।

भारत सरकार प्रणाली

भारत में शासन के दो स्तर हैं, पहला, संघीय स्तर भारतीय संसद है आमतौर पर हर पांच साल में, सदस्य देश के लोगों द्वारा सीधे चुने जाते हैं, दूसरे स्तर पर राज्य विधानसभाओं की विशेषता है, जहाँ प्रत्येक राज्य के नागरिक प्रतिनिधियों को वोट देते हैं और अंततः राज्य को चलाने के लिए सरकार बनाते हैं। भारत में 29 राज्य हैं, इसलिए 29 राज्य विधानसभाएं हैं।

इसके अलावा, सात केंद्र शासित प्रदेश भी हैं, जो केंद्र सरकार द्वारा सीधे अपने प्रतिनिधि, उपराज्यपाल के माध्यम से संचालित होते हैं। उनमें से दिल्ली और पुदुचेरी की अपनी राज्य विधानसभाएं हैं। भारतीय संसद एक द्विसदनीय विधायिका है जिसमें दो सदन हैं, निचला सदन और उच्च सदन। राज्यों को संबंधित राज्य विधानसभाओं या विधानसभा द्वारा नियंत्रित किया जाता है। लोकसभा, निचले सदन में अधिकतम 552 सदस्य होते हैं, उनमें से 530 देश में राज्यों का प्रतिनिधित्व करते हैं और 20 सदस्य संघ शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व करते हैं जो केंद्र सरकार द्वारा भारत के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त उपराज्यपाल के प्रतिनिधि के माध्यम से प्रशासित होते हैं।

राज्य सभा: उच्च सदन के सदस्य राज्य विधानसभाओं और केंद्र शासित प्रदेशों के निर्वाचित सदस्यों द्वारा चुने जाते हैं। राज्य विधानसभा का प्रत्येक राजनीतिक दल राज्य सभा में कुछ सदस्यों को भेजता है। यह संख्या राज्य विधानसभा में राजनीतिक दल की ताकत के अनुपात में होती है। लोकसभा के विपरीत, जिसे हर पांच साल में भंग किया जाता है, अथवा कुछ परिस्थितियों में जब इसे  बरकरार न रख सकने की स्थिति उत्पन्न हो जाए, मगर इसके ठीक विपरीत राज्यसभा कभी भी भंग नहीं होती है। राज्यसभा का आकार 250 सदस्यों का है, जिनमें से 238 सदस्य विभिन्न राज्यों के प्रतिनिधि हैं और 12 राष्ट्रपति द्वारा नामित हैं। एक राज्यसभा सदस्य छह साल की अवधि में कार्य करता है। हर दो साल में एक तिहाई सदस्य रिटायर हो जाते हैं, और इन खाली सीटों के लिए फिर से चुनाव होते हैं।  देश का राष्ट्रपति राज्य का प्रमुख होता है और उसे अप्रत्यक्ष चुनाव के माध्यम से चुना जाता है। लोकसभा, राज्यसभा और राज्य विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य और राज्य विधानसभा के साथ केंद्र शासित प्रदेशों के निर्वाचित सदस्य, राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करते हैं। भारतीय प्रेसीडेंसी काफी हद तक औपचारिक है और सरकार प्रधानमंत्री द्वारा चलाई जाती है, जो बहुमत प्राप्त पार्टी का प्रमुख होता है और संसद में उनके अधिकांश प्रतिनिधि और मंत्रिपरिषद होती है। 

पार्टी प्रणाली

भारत एक बहुदलीय लोकतंत्र है।1885 में भारतीय स्वतंत्रता से पहले स्थापित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस सबसे प्रमुख राजनीतिक पार्टी रही है जो कई बार सत्ता में रही है। भारत की स्वतंत्रता के बाद से लगातार 72 वर्षों में कांग्रेस अलग-अलग समय में 53,8 वर्षों तक सत्ता में रही। 2004-2014 से संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन, संप्रग नामक गठबंधन की कमान संभालने के बाद, कांग्रेस को 2014 में चुनावों में पराजित किया गया था। जिसने 1980 में स्थापित दक्षिणपंथी राजनीतिक पार्टी भाजपा भारतीय जनता पार्टी सत्तासीन हुई और कांग्रेस पार्टी को 44 सीटों तक सीमित कर दिया था। नरेंद्र मोदी, वर्तमान प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन या एनडीए गठबंधन के साथ, भारतीय जनता पार्टी जो 282 सीटों के साथ गठबंधन में सरकार बनाई यह सबसे बड़ी पार्टी थी। 2019 के चुनावों में, कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन को नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले एनडीए ने फिर से हराया और पहले से भी बड़े बहुमत के साथ सत्ता बरकरार रखी। 

प्रेस स्वतंत्रता: चुनौतियां

इंडियन प्रेस काफी हद तक स्वतंत्र है, कई घोटालों के पर्दाफास कर जनता के लिए एक प्रहरी की भूमिका निभाई है। हालाँकि, कुछ निश्चित प्रतिबंध अभी भी मौजूद हैं जो संप्रभुता, सुरक्षा, विदेशी और राजनयिक संबंधी मुद्दों से संबंधित राय व्यक्त करने पर लागू होते हैं। आधिकारिक गुप्त अधिनियम सरकार को उन मामलों से संबंधित सूचना के स्रोत के बारे में पत्रकारों से पूछताछ करने का अधिकार देता है, जिन्हें सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा मानती है।

भारत सरकार ने कई बार मीडिया को कमजोर करने का काम किया है। इनमें से महत्वपूर्ण है 26 जून 1975 को तत्कालीन प्रधानमंत्री, इंदिरा गांधी द्वारा आपातकाल लगाना। इस दौरान नागरिक स्वतंत्रता पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, स्वतंत्र प्रेस भी उनमें से एक था। गांधी सरकार के लिए अयोग्य माने जाने वाले पत्रकारों को कैद कर लिया गया था, संक्षेप में असंतोष और असहमति हर तरफ बिखरी  हुई थी। बाद में, 1988 में, तत्कालीन प्रधानमंत्री, राजीव गांधी (इंदिरा गांधी के पुत्र) ने अपनी सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों से परेशान होकर, प्रेस की स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने के लिए एंटी-डिफेमेशन बिल की मांग की यद्यपि कुछ महीने बाद, राष्ट्रव्यापी विरोध और सार्वजनिक आक्रोश के बाद्द विधेयक को वापस लिया गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली वर्तमान सरकार अक्सर प्रेस की आलोचना को असहिष्णु रूप में देखती है। ह्यूमन राइट्स वॉच की विश्व रिपोर्ट 2019 के अनुसार मोदी सरकार की आलोचना करने वाले समूह को देशद्रोह के मामले झेलने पड़े। मोदी ने प्रेस से सीधे जुड़ने से भी इनकार किया है। अपने पांच साल के कार्यकाल में उन्होंने एक भी प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं की और सवाल के जबाव नहीं दिए। इसके विपरीत, उनके पूर्ववर्ती, कांग्रेस पार्टी के डॉ. मनमोहन सिंह के पास नियमित प्रेस सम्मेलन आयोजित करने का रिकॉर्ड है।रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (आरएसएफ) द्वारा वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स में भारत की रैंक पिछले चार सालों से 2016-133 में गिर रही है यह 2017 में 138 और 2018 में 138 2019 में 140 पर पहुंच गई है। इस खराब रैंकिंग में कई कारकों का योगदान है, जैसे कि पत्रकारों के खिलाफ हिंसा का उदय, विशेष रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थकों द्वारा 2019 में आम चुनावों के दौरान, सोशल मीडिया नफरत फैलाने वाले अभियानों और हिंदुत्व के अनुयायियों द्वारा आलोचकों विचारकों और पत्रकारों को निशाना बनाया गया। इसके अतिरिक्त आत्म-सेंसरशिप और आपराधिक उत्पीड़न और पुराने "राजद्रोह" कानूनों के माध्यम से संस्थागत रूप से इसे प्रोत्साहित किया गया। और अंत में, विदेशी पत्रकारों के लिए "संवेदनशील" माने जाने वाले मुद्दों को कवर करना प्रतिबंधित, अधिकारियों द्वारा कश्मीर, स्थानीय पत्रकारों के खिलाफ हिंसा का उपयोग करना है।भारत में राजनीतिक दल और राजनीतिक संबद्धता वाले व्यक्ति मीडिया पर मालिकाना हक रखते हैं। भारत के सरकारी स्वामित्व वाले प्रसारकों जैसे दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो ने हमेशा सत्ता और सरकार के मुखपत्र के रूप में कार्य किया है। प्रसारकों को सरकारी नियंत्रण से दूर करने और दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो (एआईआर) को स्वतंत्र बनाने के लिए एक स्वतंत्र सीईओ के साथ प्रसार भारती की स्थापना की गई, जिसे प्रसार भारती ने दूरदर्शन और आकाशवाणी की देखरेख करने वाला कहा। हालांकि, व्यवहार में इसे कोई स्वायत्तता प्राप्त नहीं है क्योंकि निगम अभी भी सरकार के निर्देशों के तहत कार्य करता है। इसके अलावा, भारत सरकार रेडियो में प्रसारित समाचारों का एकाधिकार रखती है। निजी रेडियो स्टेशन भारत में समाचारों का उत्पादन या प्रसारण नहीं कर सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर रविवार को सुबह 11 बजे "मन की बात" नामक शो करके पूरे देश में पहुंचने के लिए रेडियो चैनलों का उपयोग करते हैं। संदेश सभी क्षेत्रीय भाषाओं में भी प्रसारित किया जाता है। भारत में राजनीतिक  चुनाव एक रंगीन तमाशा है क्योंकि आशावादी उम्मीदवारों द्वारा पुस्तक में मौजूद हर चाल का उपयोग करते हुए मतदाताओं पर जीत हासिल करने की कोशिश की जाती है। एक बार चुनाव खत्म हो जाने के बाद, आगामी पांच साल उच्च राजनीतिक नाटक और कार्रवाई के लिए एक मंच बन जाते हैं। अगले आम चुनाव इस साल 2019 में मार्च और अप्रैल के बीच होने वाले हैं।

  • द्वारा परियोजना
    Logo of Data leads
  •  
    Reporters without borders
  • द्वारा वित्त पोषित
    BMZ